ब्लोग पर पधारने के लिये धन्यवाद

न इस वहम पर चलो - गजल

हर घडी तलाशो नक्शे कदम
कुछ दूर तो अपने दम पर चलो

बोझ से ख्वाहिशोँ के थक जाओगे
दिल मेँ अरमान कम ले कर चलो

गुजरी बातोँ का चर्चा क्योँ हर घडी
झगडे पुराने सभी दफन कर चलो

ठोकरेँ कहीँ तेरा हौँसला तोड देँ
राहे सफर मेँ ऐसा जतन कर चलो

काफिला  मँजिल तक पहुँचायेगा
भूल जाओ  इस वहम पर चलो



गजल

सियासत की बातेँ आ ही नहीँ पाती जहन मेँ मेरे
मेरी आँखोँ ने भूख और लाचारी के मँजर देखे हैँ

जिम्मे लगाऊँ किसके, मैँ उँगली उठाऊँ किस पर
अपनोँ की आँखोँ मेँ खून व हाथ मेँ खँजर देखे हैँ

बादशाहत किसी की भी रहे नही है सरोकार मेरा
जहाँ थे महल कभी मैँने ऐसे भी कई बँजर देखे हैँ

भरे थे पानी से लबालब और मीलोँ तक थे फैले
बुझा न पाये प्यास किसी की ऐसे भी समन्दर देखे हैँ