कला और कल्पना का संगम

कहा जाता है कि खाने पीने की वस्तुओं से छेड छाड या दिल्लगी नहीं करनी चाहिये I परन्तु जब मुझे ईमेल से नीचे दिये चित्र प्राप्त हुये तो मेरी यह धारणा जाती रही I कलाकार अपनी अद्भुत कल्पना से कुछ भी कर सकता है, मेरी इस बात से आप भी सहमत होंगे, जब आप फ़लों और सब्जियों से बनाये हुये कला के इन नमूनों को देखेंगे I





लाल मिर्च और सलाद के पत्तों से बनाया हुआ "हंमिंग वर्ड"


बंद गोभी से बनाया गया "कुत्ते का चेहरा"


केले के छिलके से बनाया हुआ "ओक्टोपस"






प्याज और अंगूर से बनाया हुआ "वालरूस"


अनानास के फ़ल और पत्तो से बनाया हुआ "कछुआ"



लाल चेरी और उसकी टहनियों से बनाई गई " लाल चींटियां"


सन्तरे और बीन्स से बनाया गया "बिल्ली का चेहरा"




लाल शिमला मिर्च से बनाया गया "हाथी का सर"


भिन्डी और बीन्स के तने से बनाया गया "टिड्डा"



सीताफ़ल और बीन्स के बीज से बनाया गया "चेहरा"


नाशपती और लौंग से बनाया गया "चूहा"



मशरूम से बनाया गया "आदमी"

3 comments:

रंजू said...

रोचक लगा सब्जी फल का यह रूप देखना भी :)

अजय यादव said...

ये मिर्ची तो कमाल कर गई :)

- अजय यादव
http://merekavimitra.blogspot.com/
http://ajayyadavace.blogspot.com/
http://intermittent-thoughts.blogspot.com/

Alpana Verma said...

beautiful collection of strange pics!thanks for sharing.