टी वी सीरियल की नई सास.... लडकी के कपडे तक उतरवाये

एक जमाना था जब साफ़ सुथरे धारावाहिक दूरदर्शन के माध्यम से हमारे घरों में पहुंचते थे.. जब से चैनलों की बाढ आई है... सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिये जनता के सामने क्या क्या नहीं परोसा जा रहा.  आजकल सोनी चैनल पर एक धारावाहिक "हमारी बात पक्की"  जिसमें एक सास अपने लडके के लिये बहु तलाश कर रही है और इस काम के लिये वह अपनी होने वाली बहु  पर शादी से पहले ही क्या क्या जुल्म ढा रही है वह आप इस लिन्क पर विडियो के माध्यम से देख सकते हैं.  सास उसे चला कर देखती है... शरीर पर कोई दाग तो नहीं इसके लिये वह उसके कपडे उतरवा कर देखती है... और तो और वह मां बनने में सक्षम है कि नहीं उसके लिये उसे डाक्टर के पास फ़र्टीलिटी टेस्ट तक के लिये ले जाती है.

धारावाहिकों का सीधा सीधा असर दर्शकों पर पडता है यह बात शायद धारावाहिक बनाने वाले भूल जाते हैं, साथ ही वह भूल जाते हैं कि इस तरह के धारावाहिक परिवार के लोग साथ बैठ कर देखते हैं.

9 comments:

रचना said...

aapki baat sae purn sehmati haen

inkae khilaaf avaj uthani chaiyae

संजय बेंगाणी said...

जिम्मेदारी नारी संगठनों की ज्यादा है. चुप रहेंगी तो कपड़े उअतरते रहेंगे. मजे की बात है ये महिलाओं के लिए बने धारावाहिक है. सास भी महिला ही होती है.

honesty project democracy said...

उम्दा विचारणीय प्रस्तुती ,किसी भी इंसानियत को शर्मसार करने वाले व्यवहार या प्रसारण के खिलाप आवाज को बुलंद करना हम सभी ब्लोगरों का कर्तव्य है और ऐसे ही प्रयासों का माध्यम बनना चाहिए ब्लॉग और ब्लोगिंग | आपने सही और सार्थक प्रयोग किया है ब्लोगिंग का |

दिलीप said...

sirjikuch bhi dikha rahe hain aur ham dekh bhi rahe hain....

माधव said...

shame , shame

शिवम् मिश्रा said...

यह लोग जो ना करें वह कम है ! इस लिए मैं तो यह बेकार के नाटक देखता ही नहीं..........और भी बहुत कुछ है देखने के लिए !

Gourav Agrawal said...

क्या बदला है मानव का अनुशासन...
अब तो टी वी पर देख रहें है चीरहरण...
नारी बनी है दुशासन इन फ्रंट ऑफ़ नारी...
बहुत हो गया पुरुषों अब है मेरी बारी ...

H P SHARMA said...

निन्दा
निन्दा
निन्दा

ks said...

What our so called "Womens LIb Organizations" are doing about such show of such things.