ऐ जे हंजू


ऐ जे हंजू तू मेरे नैणा विच वैखे ने
तेरे दित्ते, ते मेरी किस्मत दे लेखे ने

ऐ जे हंजू.....

जद दा गया तू मुड के न आया
तेरीयां उडीकां मैनूं बौता रुलाया
लौकी कैंदे.... मैं तैनू भुल जांवां
तू मुड आवेंगा... ऐ मेरे भुलेखे ने

ऐ जे हंजू....

तू ही दस हुण की करां मैं
जींदीं रवां कि घुट के मरां मैं
नैण नजारे कम न किसी दे
तेरे वाजों सारे डंग सरीखे  ने

ऐ जे हंजू तू मेरे नैणा विच वैखे ने
तेरे दित्ते, ते मेरी किस्मत दे लेखे ने

3 comments:

सुनीता शानू said...

आपकी पोस्ट की चर्चा कृपया यहाँ पढे नई पुरानी हलचल मेरा प्रथम प्रयास

सागर said...

very touching...

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही भावपूर रचना....